विश्व बन्धुतत्व के महान विचारक स्वामी विवेकानंद को एक राजा ने अपने भवन में बुलाया और बोला – “आप हिन्दू लोग मूर्ती की पूजा करते हो? मिट्टी, पीतल,